अन्तर्राष्ट्रीय महिला दिवस के अवसर पर “श्री साईं शैल मंगलम महाविद्यालय” सिंगरौली में कार्यक्रम सम्पन्न

नारी तू नारायणी सब तुझसे ही उत्पन्न “तू है शक्ति“
“अन्तर्राष्ट्रीय महिला दिवस के अवसर पर “श्री साईं शैल मंगलम महाविद्यालय“ सिंगरौली में ओजपूर्ण तरीके से सम्पन्न किये गये रंगारंग कार्यक्रम।
सिंगरौली जिले में उत्कृष्ट शिक्षा के क्षेत्र मे एक अलग पहचान बना चुके “श्री साईं शैल मंगलम महाविद्यालय” के छात्र-छात्राओं द्वारा स्थानीय अधिकारी मनोरंजन गृह-मोरवा मे ओजपूर्ण सांस्कृतिक कार्यक्रमों की एक भव्य श्रृंखला का आयोजन किया गया । सर्वप्रथम कार्यक्रम की मुख्य अतिथि सिंगरौली नगर-निगम की प्रथम महिला महापौर श्रीमती प्रेमवती खैरवार, विशिष्ट अतिथि एडीशनल एस0पी0 श्री सूर्यकान्त शर्मा,कार्यक्रम की अध्यक्षता कर रहीं शासकीय स्नातकोत्तर महाविद्यालय, बैढन की प्राध्यापिका डाॅ0 वीणा तिवारी जी, बेटी बचाओ अभियान पर निरंतर कार्य कर रही श्रीमती आशा अरूण यादव, महिला थाना प्रकोष्ठ प्रभारी, निर्भया प्रमूख टी0आई0 अर्चना द्विवेदी जी, अमृत विद्यापीठ शिक्षा महाविद्यालय के निदेशक डाॅ0 अश्विनी तिवारी जी, जिला पंचायत सदस्य श्रीमती रानी अग्रवाल जी, डी.ए.व्ही. दुधीचुआ. प्राचार्य, श्री अमिताभ श्रीवास्तव ने सम्मिलित रूप से माँ सरस्वती की प्रतिमा पर पूजन-अर्चन व माल्यार्पण किया। महाविद्यालय के छात्राओं द्वारा गणेश वन्दना के साथ बड़े ही मनमोहक अंदाज मे कार्यक्रम का शुभारंभ किया गया व वन्दना के साथ-साथ प्रस्तुत नृत्य के माध्यम से साक्षात गणेश भगवान का दर्शन उपस्थित दर्शक दीर्घा को कराया गया, जो कि बहुत ही अद्भूत था। आये हुये अतिथियों का स्वागत माल्यार्पण व पुष्पगुच्छ भेट कर निदेशक महोदय व प्राचार्य महोदय द्वारा किया गया ,तत्पश्चात छात्राओं द्वारा आये हुये देव स्वरूप अतिथियों के स्वागत मे गीत की प्रस्तुती की गई। महाविद्यालय के निदेशक गोपाल जी श्रीवास्तव जी ने इस अवसर पर उपस्थित मुख्य अतिथि, विशिष्ट अतिथियों, पत्रकार साथियों, अभिभावको व उपस्थित समस्त लोगों का स्वागत व अभिनन्दन करते हुये अपने स्वागत भाषण के माध्यम से आज के इस “तू है शक्ति” कार्यक्रम जो कि पूर्णतया महिला सशक्तिकरण पर आधरित था, नारी शक्तियों को समर्पित किया। उन्होने दो पक्तियां नारी शक्ती को समर्पित करते हुये कहा कि-“नारी तू प्यार है, एतबार है, तू ममता है, तू करूणा है, तू शक्ति है,तू शांत है,तू गंभीर है, तू प्रकृति है और तु ही इस जगत का आधार है।“
स्वागत भाषण के पश्चात रंगारंग कार्यक्रमो में सर्वप्रथम महाविद्यालयीन छात्र-छात्राओं द्वारा महिषासुर मर्दनी भरतनाट्यम नृत्य के माध्यम से बड़े ही अद्भूत व अत्यूत्तम तरीके से प्रस्तुत किया गया पूरे नृत्य के दौरान सभा कक्ष तालियों के गड़गड़ाहट से गूँजता रहा, तत्पश्चात बेटी-बचाओं अभियान पर आधारित नृत्य नाटिका की प्रस्तुति हुई जो कि दिल को छुने वाली एवं उपस्थित दर्शको के रोगंटे खड़ी कर देने वाली रही। विशिष्ट अतिथियों व दर्शक दीर्घा में बैठे लोग अश्रुपूरित हो गये। कार्यक्रम का संचालन कर रही हिन्दी साहित्य की सहायक प्राध्यापिका व इस पूरे कार्यक्रम की सूत्रधार श्रीमती अनुपमा श्रीवास्तव जी ने काफी शानदार तरीके से कार्यक्रम मे अपना आगाज करते हुये संचालन सम्भाले रखा व उक्त कार्यक्रम के पश्चात डाॅ0 वीणा तिवारी मैडम का उनके अध्यक्षीय भाषण हेतु महिला शक्तियों के मार्गदर्शन व उत्साहवर्धन हेतु मंच पर आमंत्रित किया गया।
उन्होने अपने उद्बोधन मे बच्चियो को “सा रे गा मा पा धा नि शा“ को ध्यान मे रखते हुये ‘सा‘ से सावधान, ‘रे‘ से रेगुलर अपना व अपने परिवार का ध्यान, ‘गा‘ से गर्व, ‘म‘ से मन को दृढ़ व निश्चयी बनाना ‘धा‘ से धैर्य धारण करना, ‘नि‘ से निडर बनना व ‘शा‘ से शांत रहने का मार्ग दिखाया व मूल मंत्र दिया। तत्पश्चात महाविद्यालयीन छात्र-छात्राओं द्वारा “आज की नारी “ नाट्य प्रस्तुति दी गई जिसमें वर्तमान समयं मे महिलाओं पर हो रहे अत्याचार को दर्शाया गया, तेजाब फेेंक कर हमला करने वालो के विरोध में महाविद्यालय की छात्रा अंबिका कुमारी सिंह का “बेखौफ रहूगीं मै“ गीत की प्रस्तुति अत्यन्त ओजमयी रही। निर्भया कांड से जुड़ा नृत्य पिंक की प्रस्तुति बहुत ही मर्मस्पर्शी रहा, तत्पश्चात बेटी बचाओं अभियान को मुखर रूप से सिंगरौली मे चलाये जाने वाली समाज सेविका आशा अरूण यादव जी को मंच पर आमंत्रित किया, उन्होने भी बताया कि 101 स्थानों पर वे बेटी बचाओं अभियान के अन्तर्गत गायत्री मंत्र के साथ हवन कर जन जागृति कार्यक्रम निरंतर कर रही है।
छात्रा सपना सिंह द्वारा “आजादी“ गीत की प्रस्तुति ने पूरे सभाकक्ष को बांधे रखा, छात्राओं द्वारा किये गये कार्यक्रम इतने आकर्षक व सारगर्भित रहे कि कोई भी दर्शक अपने स्थान से उठ न पाया और मंत्रमूग्ध हो सभी इन कार्यक्रमों का आनन्द ले रहे थे। मंच पर कार्यक्रम के विशिष्ट अतिथि व्यवहार कुशल अनुशासित माननीय एडीशनल एस0पी0 साहब श्री सूर्यकान्त शर्मा जी को महिला शक्ति के मार्गदर्शन व उत्साहवर्धन हेतु आमंत्रित किया गया और मंच पर आते ही उन्होने धीर-गंभीर दर्शक दीर्घा के चेहरे पर मूस्कान की छटा बिखेर दी, उन्होने डाॅयल 100 की चर्चा करते हुये निर्भया मोबाइल सर्विस के बारे मे बताया और अपनी समस्त संदेशप्रद बाते बड़े ही मनोहारी अंदाज में मन को आनंदित कर देने वाले कर्णप्रिय संगीत के माध्यम से सभी के समक्ष रखा और कहा कि अब समय परिवर्तित हो चुका है और अब हर बेटी के पिता को यह कहने मे गर्व होता है कि वो परियों के देश मे रहता है। अपर पूलिस अधीक्षक श्री सूर्यकान्त शर्मा जी ने समस्त सिंगरौली वासियों को उक्त मौके पर आश्वस्त भी किया कि सिंगरौली जिले में हर क्षण पूलिस बल पूर्णतया चौकस है और इस प्रकार के कोइ भी गलत कार्य करने वाले किसी भी अपराधी को बख्सा नही जायेगा। उन्होने कार्यक्रम मे शमां बाधते हुये अपनी सारी बातो को बहुत ही सरल सूगम गीत के माध्यम से प्रस्तुत किया जो लोगो के जेहन मे आसानी से याद रहेगी । अपर पूूलिस अधीक्षक महोदय के उदबोधन के पश्चात महाविद्यालयीन छात्राओं द्वारा “मरदानी“गीत पर नृत्य की प्रस्तुति दी गयी जो कि महिलाओं के सेल्फ डिफेन्स पर आधरित की गई थी व नृत्य के माध्यम से उन्हे प्रेरित किया गया और उसके बाद मूख्य अतिथि माननीय महापौर श्रीमती प्रेमवती खैरवार जी को मंच पर उद्बोधन हेतु आमत्रित किया। उन्होने भी अत्यन्त सारगर्भित उद्बोधन मे महिला सशक्तिकरण को आदी काल से जोड़ते हुये अनेको महिला शक्तियों के बारे मे बताया,कार्यक्रम के अन्त मे महाविद्यालयीन छात्राओं द्वारा “तू है शक्ति“ गीत पर अद्भूत, हृदयस्पर्शी, अतिउत्तम नृत्य की प्रस्तुति दी गई , जिसमे अंत मे नव दुर्गा बनी छात्राओं के आगमन पर संपूर्ण दर्शक दीर्घा मे र्बठे लोग अपने स्थान पर खड़े होकर तालियो की गड़गड़ाहट व मन में असीम श्रद्धा के साथ उक्त नृत्य को खूलेमन से सराहे।
अन्त मे आये हुए अतिथियों को प्रतीक चिन्ह भेट कर सम्मानित किया गया। उक्त गौरवशाली कार्यक्रम का सफल संचालन सहायक प्राध्यापिका श्रीमती अनुपमा श्रीवास्तव व स0प्र0 श्री रामजी शुक्ला ने कार्यक्रम की गरिमा को बनाये रखते हुये बड़े सधे अंदाज मे सफल तरीके से सम्पन्न किया। कार्यक्रम की सफल प्रस्तुति के पीछे महाविद्यालय के समस्त शिक्षको व बच्चों की मेहनत निश्चय ही दीखती है। सहायक प्राध्यापिका श्रीमती लक्ष्मी जिन्होने पुरा बैक स्टेज प्रबंध संभाला हुआ था निश्चय ही प्रशंसा की पात्र है , पुरे कार्यक्रम की व्यवस्था देख रहें सहा. प्राध्यापकों में श्री दिनेश श्रीवास्तव,श्री पंकज कुमार सिंह, श्री रामनारायण पनिका,मो0 हनीफ कुरैशी, श्री अरविन्द बैस, श्री विनोद कुमार विश्वकर्मा , मो0 मकसूद आलम, श्री राहुल कुमार व सुश्री अंजली का बहुत ही सकारात्मक अभूतपुर्व समन्वय व प्रबंधंन देखने को मिला। कार्यक्रम के अंत में महाविद्यालय के प्राचार्य श्री संजीव कुमार ने महाविद्यालय की नारी शक्तियों , छात्र- छात्राओं व आये हुये समस्त अतिथियों एवं अभिवावकों का आभार ज्ञापन इस आशा के साथ किया कि आज का यह कार्यक्रम निश्चित ही सभी के जेहन में अपनी छाप छोडने में सफल हुआ है।